भारतीय शिक्षा के मूल तत्त्व

Bharatiya Shiksha ke Mool-tattwa

90.00

3 in stock

SKU: 2c6cadacf5de Categories: ,

शिक्षा किसी भी देश की सभ्यता और संस्कृति का अनिवार्य अंग है | शिक्षा के व्दारा  न केवल व्यक्ति का सर्वांगीण विकास होता है, वरन सामाजिक एवं सांस्कृतिक विरासत का संरक्षण भी यह करती है | नयी पीढ़ी अपनी संस्कृति के प्रति आस्था और निष्ठा उसी शिक्षा के माध्यम से रख सकती है, जिसका आधार उनकी अपनी संस्कृति हो | श्री तोमर का चिन्तन अनेक दृष्टियों से मौलिक है | इनकी भाषा और शैली प्रभावशाली है | हमें आशा है की श्री तोमर के इस ग्रन्थ का शिक्षा-जगत समुचित स्वागत करेगा और वे सभी लोग उनके ग्रन्थ से लाभान्वित होंगे जो शिक्षा व्दारा नव राष्ट्र-निर्माण के कार्य में संलग्न है |

Weight 230.00 g
Publisher

Suruchi Prakashan