पंचकोशात्मक विकास के पथ पर

शिक्षा का विचार नित्य नूतन – चिर – पुरातन है । जितनी आवश्यकता प्राचीन ज्ञान के तर्कसंगत भाग को अंगीकार कर उनके प्रति श्रद्धा बनाए रखने की है , उतनी ही नई बातों को स्वीकार करने की भी है। ‘ व्यक्तित्व के सर्वाङ्गीण विकास ‘ की भारतीय अवधारणा इसी प्रकार का शाश्वत विचार है । यह आज के प्रचलित Personality Development से भिन्न है। डॉ . मधुश्री सावजी ने अत्यन्त परिश्रमपूर्वक भारतीय विचार पर आधारित पंचकोशात्मक विकास की इस संकल्पना पर इस पुस्तिका की रचना मूलत : मराठी में की है यह उसका हिंदी अनुवाद है।

25.00

50 in stock

SKU: VBE024 Category:

शिक्षा का विचार नित्य नूतन – चिर – पुरातन है । जितनी आवश्यकता प्राचीन ज्ञान के तर्कसंगत भाग को अंगीकार कर उनके प्रति श्रद्धा बनाए रखने की है , उतनी ही नई बातों को स्वीकार करने की भी है। ‘ व्यक्तित्व के सर्वाङ्गीण विकास ‘ की भारतीय अवधारणा इसी प्रकार का शाश्वत विचार है । यह आज के प्रचलित Personality Development से भिन्न है। डॉ . मधुश्री सावजी ने अत्यन्त परिश्रमपूर्वक भारतीय विचार पर आधारित पंचकोशात्मक विकास की इस संकल्पना पर इस पुस्तिका की रचना मूलत : मराठी में की है यह उसका हिंदी अनुवाद है।

Weight 46.000 g
Dimensions 21.3 × 14 × 0.2 cm
Language

हिन्दी

Blinding

Pages

32+2

Author

Dr. Madhu Sanjeev Savji

Publisher

Vidya Bharti Sanskriti Shiksha Sansthan

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “पंचकोशात्मक विकास के पथ पर”