जगसिरमौर बनाएं भारत

जग सिरमौर बनायें भारत , इस भाव के प्रस्फुटन में मनोमस्तिष्क को झकझोरने की सामर्थ्य से युक्त है । जब कभी इस वन्दना – प्रार्थना गीत की रचना हुई होगी , उस समय रचयिता के मन में किस प्रकार के भाव जागृत हो रहे होंगे , उनकी कल्पना ही की जा सकती है । लेखक ने उस कल्पना के तन्तु पकड़ कर , कवि की भावपीठिका पर बैठकर , विचारों के ताने – बाने को शब्दों का आकार देने के लिए साहित्य में अपेक्षाकृत कम प्रचलित विधा का अभिनव प्रयोग किया है।

35.00

50 in stock

SKU: VBC010 Category:

जग सिरमौर बनायें भारत , इस भाव के प्रस्फुटन में मनोमस्तिष्क को झकझोरने की सामर्थ्य से युक्त है । जब कभी इस वन्दना – प्रार्थना गीत की रचना हुई होगी , उस समय रचयिता के मन में किस प्रकार के भाव जागृत हो रहे होंगे , उनकी कल्पना ही की जा सकती है । लेखक ने उस कल्पना के तन्तु पकड़ कर , कवि की भावपीठिका पर बैठकर , विचारों के ताने – बाने को शब्दों का आकार देने के लिए साहित्य में अपेक्षाकृत कम प्रचलित विधा का अभिनव प्रयोग किया है।

Weight 70.000 g
Dimensions 21.2 × 13.7 × 0.4 cm
Language

हिन्दी

Blinding

Pages

56+2

Author

Shri Gopal Maheshwari

Publisher

Vidya Bharti Sanskriti Shiksha Sansthan

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “जगसिरमौर बनाएं भारत”