गोरक्षा-राष्ट्ररक्षा, गोसेवा-जनसेवा

Goraksha-Rashtraraksha, Goseva-Janseva

60.00

6 in stock

SKU: 5af92ce895a5 Categories: , ,

गोरक्षा राष्ट्र रक्षा – गोसेवा जन सेवा 

इस छोटी सी पुस्तिका में अपने प्राचीन धर्मशास्त्रों के साथ-साथ वर्तमान में गोरक्षा हेतू चलने वाली व्यवस्थाओं का ”गागर में सागर भरने” का जो प्रयास किया है वह वास्तव में बहुत ही प्रशंसनीय है |

Weight 105.00 g
Publisher

Suruchi Prakashan